Jump to content



http://nirantar-ki-kalam-se.blogspot.com/







सच को स्वीकार करो

Posted by rajtela1, 06 September 2010 - - - - - - · 218 views
Ghazal, Shayri, Kavita

  


  

मेरी इल्तजा तू...



क्यों नफरत में जीते हैं

Posted by rajtela1, 06 September 2010 - - - - - - · 153 views

  


  

मौत का इंतज़ार है,सफ़र जिन्दगी का,

...


ये पत्थरों का शहर है,

Posted by rajtela1, 06 September 2010 - - - - - - · 190 views
Ghazal, Shayri, Kavita

  


  

  

ये पत्थरों का शहर है,

  

अश्कों का क्या...


निरंतर चाहा था,हमेशा चाहूंगा

Posted by rajtela1, 06 September 2010 - - - - - - · 135 views
Ghazal, Shayri, Kavita

  

सोच में डूबा था,ख्यालों में खोया था,

  

तुम को अब भी खोज...


जहन से अन्धेरा हटाओ

Posted by rajtela1, 06 September 2010 - - - - - - · 197 views
Ghazal, Shayri, Kavita

    




जहन से अन्धेरा हटाओ

  

रोशनी से उसे नहलाओ...





December 2014

S M T W T F S
 123456
78910111213
1415161718 19 20
21222324252627
28293031   

Categories

Digg

Twitter

Latest Visitors




View SpicyFlavours Stats